May 21, 2024

राजस्थान में पकड़े गए 4 पाकिस्तानी जासूस : 20 से ज्यादा बार पाक जा चुका एक एजेंट, एंबेसी से सीधे कॉन्टैक्ट में था

बाड़मेर। राजस्थान की इंटेलिजेंस पुलिस ने बाड़मेर से 4 लोगों को पकड़ा है, ये सभी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के लिए जासूसी कर रहे थे। चार पाक जासूसों को अलग-अलग जगहों से डिटेन किया है। इसमें एक जासूस आईएसआई के बुलावे पर कई बार पाकिस्तान भी गया और भारत की गोपनीय व सामाजिक सूचनाएं दीं। जासूस का पाकिस्तान एंबेसी के अधिकारियों से भी सीधा संबंध सामने आ रहा है। फिलहाल एटीएस सहित सुरक्षा एजेंसियां पूछताछ कर रही है।
खुफिया पुलिस सूत्रों के मुताबिक राजस्थान की सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट मिल रहा था कि बाड़मेर के जासूस पाकिस्तान को सूचनाएं भेज रहे हैं। राजस्थान इंटेलिजेंस की सूचना पर जयपुर एसओजी टीम ने बीते दो दिनों में अलग-अलग जगहों से 4 संदिग्ध लोगों को पकड़ा है। पूछताछ के बाद चारों को एसओजी टीम जयपुर ले गई। जयपुर में एटीएस सहित अलग-अलग सुरक्षा एजेंसियों गहनता से पूछताछ कर रही हैं।

20 से ज्यादा बार पाकिस्तान जा चुका आरोपी
एसओजी सूत्रों से जानकारी मिली है कि टीम ने मंगलवार को जिले के शिव इलाके से एक संदिग्ध रतन खान (52) पुत्र जीवरे खान पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए काम कर रहा था। सीमा पार लगातार देश की गोपनीय सूचनाएं भिजवा रहा था। 20 से ज्यादा बार पाकिस्तान की यात्रा कर चुका है। उस पर एजेसियां लगातार निगाह रख रही थीं। जासूसी से संबंधी पुख्ता इनपुट मिलने के बाद एक दिन पहले उसे पकड़ लिया गया। वह बाड़मेर में लंगो की ढाणी धारवी का रहने वाला है।

आईएसआई के लिए तैयार करता था लोग
आरोपी की पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से संपर्क होने और दिल्ली में पाकिस्तानी एंबेसी के अधिकारियों से संपर्क होने की बात सामने आई है। आरोपी स्थानीय लोगों को पाकिस्तान खुफिया एजेंसी के लिए तैयार करता था। फिर उन्हें पाकिस्तान भी भिजवाता था। एंबेसी से वीजा भी क्लियर करवाता था।

पासपोर्ट एजेंट है आरोपी
पकड़ा गया आरोपी रतन खान गांव में सांपों को पालने के साथ कंबल बेचने का भी काम करता था। वही, बीते कुछ सालों से पासपोर्ट एजेंट का काम करता था। गांव के अलावा अन्य लोगों के पासपोर्ट बनाता था।

तीन अन्य को भी पकड़ा गया
वहीं, पुलिस ने चौहटन इलाके से एक संदिग्ध को पकड़ा है। वहीं, दो अन्य संदिग्ध जासूसों को भी पकड़ा है।एसओजी एडीजी अशोक राठौड़ से इस संबंध में फोन पर बात की तो उन्होंने किसी कार्रवाई से इनकार किया है।