February 29, 2024

दुबई, एजेंसी। सऊदी अरब में भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किए गए वरिष्ठ प्रिंस मितेब बिन अब्दुल्ला को समझौते के बाद रिहा कर दिया गया है। इसके लिए उन्हें 100 करोड़ डॉलर (करीब 6,600 करोड़ रुपये) के बराबर राशि देनी पड़ी।

नेशनल गार्ड के पूर्व प्रमुख और पूर्व शाह अब्दुल्ला के बेटे 65 वर्षीय मितेब को एक समय सिंहासन का प्रमुख दावेदार माना जाता था। वह क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के कजिन हैं। सऊदी अधिकारी ने बताया कि मितेब को स्वीकार्य समझौता करने के बाद मंगलवार को रिहा किया गया। समझौते में भ्रष्टाचार में लिप्त होने की स्वीकारोक्ति भी शामिल है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि मितेब कहीं भी आने-जाने के लिए स्वतंत्र होंगे या नजरबंद रहेंगे।

सऊदी प्रशासन भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किए गए कुछ अन्य लोगों के साथ भी समझौते की बातचीत कर रहा है। उनसे रिहाई के एवज में अपनी संपत्तियां और नकदी सौंपने को कहा गया है। एक सप्ताह पहले सऊदी क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान ने भी न्यूयॉर्क टाइम्स से बातचीत में कहा था कि गिरफ्तार किए गए करीब 200 उद्योगपतियों और अधिकारियों में अधिकतर समझौते के लिए राजी हो रहे हैं। उन उधोगपतियों को सम्पति के एवज में रिहाई दी जा रही है।

क्या है मामला 
मितेब समेत करीब एक दर्जन सऊदी प्रिंस, बड़ी संख्या में मंत्रियों और अधिकारियों को चार नवंबर को भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। इनमें खरबपति प्रिंस अल वालीद बिन तलाल भी शामिल हैं। सऊदी शाह द्वारा क्राउन प्रिंस मुहम्मद की अध्यक्षता में नई भ्रष्टाचार रोधी समिति बनाने के बाद यह कार्रवाई की गई। इसे भ्रष्टाचार के बहाने क्राउन प्रिंस की ताकत बढ़ाने की कवायद माना जाता है।

ये हैं आरोप 
मितेब पर गबन, फर्जी कर्मचारी रखने, वसूली और घूसखोरी के आरोप हैं। इसके अलावा 10 अरब डॉलर के वाकी टॉकी और अरबों के बुलेटप्रूफ सैन्य वर्दी ठेका समेत कई अन्य ठेके अपनी कंपनी को दिलाने के भी आरोप हैं।