May 26, 2024

बीकानेर। सैंट्रल जेल बीकानेर से आठ साल पहले पैरोल से फरार हुए कुख्यात बंदी शंकर खोखर उर्फ शंकरियां को सोमवार की देर शाम बिलाड़ा पुलिस तिलवासनी में धर दबोचा,मौके पर उसके कब्जे से चार जिंदा कारतूस भी बरामद हुए है। जानकारी के अनुसार जौधपुर में बहुचर्चित नटवरसिंह हत्याकाण्ड में आजीवन कारावास की सजा काटने के दौरान सात साल पूर्व पैरोल से फरार हार्डकोर बदमाश व कैदी शंकर खोखर यहां बीकानेर सैंट्रल जेल में बंद था,जो जनवरी २०११ में पैरोल पर छूटने के बाद फरार हो गया। फरारी के बाद बीकानेर समेत जौधपुर पुलिस सरगर्मी से उसकी तलाश में जुटी हुई थी और उस पर दो हजार का ईनाम भी घोषित था। गिरफ्तारी के समय पुलिस कार्यवाही के दौरान शंकर ने पुलिस पर फायर करने के बाद देशी कट्टा अपने साथी को देकर भगा दिया। उसके खिलाफ पुलिस पर फायरिंग कर जानलेवा हमला, राजकार्य में बाधा डालने, सरकारी सम्पत्ति को हानि पहुंचाने का मामला दर्ज किया गया है। बताया जाता है कि शंकर उर्फ शंकरियां गत दो जनवरी को भी डांगियावास थाने के पीछे मैदान में क्रिकेट खेल रहा था। तब भी वह पुलिस पर जानलेवा हमला कर भाग निकला था। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार शंकर बिलाड़ा थाने का हार्डकोर अपराधी है और जोधपुर में सरदारपुरा थानान्तर्गत 12वीं रोड चौराहे के पास नटवर सिंह की हत्या के मामले में उसे आजीवन कारावास की सजा हो रखी है। उसके खिलाफ सत्रह मामले दर्ज हैं। इनमें हत्या के तीन, हत्या के प्रयास के आधा दर्जन, पुलिस पर हमले के तीन-चार मामले शामिल हैं। उसके खिलाफ पन्द्रह स्थाई गिरफ्तारी वारंट जारी हैं। वह तीन जगह से मफरूर घोषित है। सजा सुनाए जाने के बाद उसे बीकानेर जेल भेज दिया गया था, जहां से वह पैरोल पर बाहर आने के बाद फरार हो गया था।
18 मामले दर्ज, इनमें 4 हत्या के
शंकरियाके खिलाफ बीकानेर समेत जोधपुर शहर ग्रामीण, पाली, नागौर, सिरोही, 4 हत्या, 10 हत्या प्रयास के अलावा राजकार्य में बाधा, आर्म्स एक्ट, मारपीट सहित कुल 18 मामले दर्ज हैं। जोधपुर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने दो हजार रुपए का इनाम घोषित कर रखा है। इसके अलावा पुलिस महानिदेशक ने भी इसे पकडऩे के आदेश दे रखे हैं।