February 22, 2024

बीकानेर। बीकानेर शहर जिला कांग्रेस अध्यक्ष यशपाल गहलोत ने आज बयान जारी कर कहा कि बीकानेर नगर निगम महापौर नारायण चोपड़ा अपने कार्यकाल में पूरी तरह निष्क्रिय और प्रभावहीन महापौर साबित हुए है। बीकानेर शहर जो कि साफ सुधरा शहर गिना जाता रहा है। पिछले 2 वर्षों में उसकी सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। शहर के मुख्य मार्ग गंदगी से अटे पड़े है सीवरेज का पानी सड़कों पर फैलाव लेकर बीमारिया फैला रहा है। इनसे ब्लॉक तक सीवरेज के सही नही हो रहे और पूरा शहर आवरा निराश्रित पशुओं से अटा पड़ा है जहां आये दिन दुर्घटनाएं हो रही है। आमजन काल का ग्रास बन रहे है और बीकानेर महापौर सिर्फ कागजो में बीकानेर शहर को ओडीएफ घोषित करवा कर श्रेय लेना चाह रहे है जबकि शहर तो आज भी ओडीएफ नही है इतिहास के सबसे नाकारा महापौर साबित हुए है।
यशपाल गहलोत ने कहा कि बीकानेर शहर कांग्रेस पिछले 2 वर्षों से लगातार आवरा पशुओं से बीकानेर को निजात दिलाने की मांग करती आ रही है। निराश्रित गौवंश के लिए कांजी हाऊस बनाने की मांग कर रही है लेकिन निगम प्रशासन कुंभकर्णी नींद सोया हुआ है और अब तो महापौर के खिलाफ उनके ही पार्टी के जनप्रतिनिधि धरना लगाकर बैठे है जो कि साबित करता है कि बीकानेर के महापौर नारायण चोपड़ा कितने प्रभावहीन महापौर है और अपने ही पार्षदों द्वारा निशाने पर आए महापौर को निगम की कुर्सी पर बैठने का कोउ हक नही जिन पार्षदों के सहारे वो बहुमत साबित किये वे ही पार्षद आज नगर निगम में धरने पर बैठे है अपने हिंप्रशासन के खिलाफ जो कि साफ है कि महापौर अविश्वासी है और नैतिकता के आधार पर बीकानेर महापौर नारायण चोपड़ा को तुरन्त अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए और बीकानेर शहर कांग्रेस महापौर से इस्तीफे की मांग भी करती है।