February 25, 2024

बीकानेर दौरे पर आये पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रेस कांफ्रेस
बीकानेर। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वर्तमान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि रिफाइनरी का पिछली कांग्रेस सरकार के समय उद्घाटन हो चुका है। दो कंपनियों के साथ करार भी हो गया। लेकिन अब भाजपा सरकार रिफाइनरी का दुबारा शिलान्यास नाम पर ‘कार्य का शुभारंभÓ नाम दिया जा रहा है। इसमें प्रधानमंत्री को बुलाकर मुख्यमंत्री श्रीमति वसुंधरा राजे देश के प्रधानमंत्री पद की गरिमा को गिराने पर तुली है। एक पत्थर को लगाने के लिए प्रधानमंत्री को बुलाना गलत है। प्रधानमंत्री को खुद भी इस कार्यक्रम में नहीं आना चाहिए। बीकानेर दौरे पर आये अशोक गहलोत ने शनिवार सुबह यहां सर्किट हाउस में प्रेस कांफ्रेस करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बीच बिगड़ी ट्यनिंग के तार छेड़ते हुए कहा कि दोनों के बीच बिगड़े तालमेल के कारण केन्द्र सरकार के स्तर पर राजस्थान को उपेक्षा का शिकार बनना पड़ा है। उन्होने रिफायनरी में भागीदारी 26 प्रतिशत को कम बताते हुए कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा ने चार साल बर्बाद कर दिए। अब इसी भागीदारी पर इसका काम शुरू किया जा रहा है। यदि चार साल पहले काम शुरू हो जाता तो हजारों लोगों को रोजगार मिल जाता। यह उनके अहम, घमंड और सामंती सोच का ही नतीजा है कि प्रदेश विकास के मामले में आज पिछड़ रहा है। मुख्यमंत्री को यह डर था कहीं रिफानरी की उपलब्धी कांग्रेस को न मिल जाए, इसीलिए उन्होंने इसमें देरी की है। गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री ने रिफायनरी के मामले में प्रधानमंत्री मोदीजी को भी गुमराह किया गया है। शिलान्यास के चार साल तक भागीदारी को लेकर मुख्यमंत्री ने भ्रम फैलाया है। अब उसी पर ये राजी हो रहे हैं, इससे इनकी इनकी सोच सामने आ रही है। आम लोगों से जुड़ी कई योजनाओं को बंद कर दिया गया है। प्रेस कांफ्रेस में नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, पूर्व मंत्री डॉ. चंद्रभान, श्रीकोलायत विधायक भंवरसिंह भाटी भी मौजूद थे।
सरकार की नाकाबिलियत पर उठाया सवाल
प्रदेश सरकार की नाकाबिलियत पर सवाल उठाते हुए उन्होने कहा कि राज्य सरकार एक ओर चार साल के सफलतम कार्यकाल का जश्र मना रही है। वहीं दूसरी और आम आदमी कुशासन से त्रस्त है। चिकित्सा, शिक्षा, बिजली पानी से जुड़ी समस्याएं आज भी मुंह बाए खडी है। कानून व्यवस्था प्रदेश में पूरी तरह चौपट हो गई। गृहमंत्री और चिकित्सा मंत्री बचकाने बयान दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि विदेशों में चर्चा हो रही है कि राज्य में कोई सुरक्षित नहीं है। ऐसे में विदेशी राज्य में आने से कतरा रहे हैं। किसान विरोधी होने के कारण हर तरफ से अनुदान को घटाया जा रहा है। पुरानी योजनाओं को नए कलेवर में पेश किया जा रहा है।
उप चुनाव में जीत का भरोसा
पूर्व मुख्यमंत्री ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए राजस्थान में दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनावों में जीत का दावा करते हुए कहा कि प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है। सरकार निजीकरण को बढ़ावा दे रही है। खान घोटाला, एनआरएचएम घोटला, पीएचईडी घोटले सरीखे गंभीर मुद्दों पर सरकार की खामोशी से आमजन में कांग्रेस के लिए प्रगाढ़ता हुई है। इसका नतीजा है कि उप चुनावों में कांग्रेस की शानदार जीत होगी।