May 26, 2024

राजस्थानी चिराग रिपोर्टर

बीकानेर। शहर भर में नौ स्थानों पर लाखों रुपए की लागत से लगी ट्रैफिक लाइट्स शो-पीस बनकर रह गई है। ट्रैफिक लाइट यातायात को कंट्रोल करने के लिए लगाई गई थी, लेकिन यह तमाम लाईटें पिछले दो साल सें बंद पड़ी है। ऐसे में शहर में बढ़ रहे ट्रैफिक को कंट्रोल करने के लिए ट्रैफिक पुलिस को दिनभर माथापच्ची करनी पड़ रही है। कुछ प्वाइंट तो ऐसे हैं जहां हर समय हादसे का खतरा मंडराता रहता है। खास बात यह है कि ट्रैफिक लाइट को नियमित रूप से चलाने के लिए कोई भी महकमा सिरदर्दी लेना को तैयार नहीं है। सूत्रों के अनुसार शहर में नगर निगम व नगर विकास न्यास ने मिलकर बारी-बारी से ट्रैफिक लाइट मुख्य मार्गों पर यातायात नियंत्रित करने के लिए लगवाई थी, लेकिन लाइट्स वर्तमान में सिवाय शो-पीस के अलावा कोई काम नहीं दे रही है। पड़ताल करने पर मालूम चला कि ट्रेफिक लाइट्स के शहर में कामयाब नहीं होने का मुख्य कारण मरम्मत के लिए बीकानेर में टैक्नीकल स्टाफ का नहीं
होना है।
लाइट्स में कोई भी दिक्कत आती है तो मरम्मत के लिए तकनीकी कर्मचारी जयपुर से आता है, जिस पर काफी खर्चा आता है। ऐसे में नगर निगम व नगर विकास न्यास खर्च के डर से तकनीकी स्टाफ को बुलाने में रूचि नहीं लेता है। दूसरी बात ट्रैफिक लाइट्स के लिए संयुक्त रूप से कंट्रोल रूम नहीं है, जिससे सभी प्वाइंटस पर नजर रखने के साथ उन्हें ऑपरेट किया जा सके।
यहां लगी हैं लाइटें
शहर के म्यूजियम सर्किल, महाराजा तिराहा, राणीबाजार चौराहा, जूनागढ़ के सामने कुंज गेट, जयपुर रोड पर सोफिया स्कूल के पास, भीमसैन सर्किल, जैसलमेर रोड पर पंडित धर्म कांटा, कोठारी हॉस्पिटल व पूगल फांटा के पास ट्रैफिक लाइट्स लगी हैं, लेकिन कोई भी लाइट काम नहीं करती जबकि जयपुर व जैसलमेर रोड पर ट्रैफिक का सबसे ज्यादा जबाब रहता है। आए दिन तेज रफ्तार की वजह से उक्त मार्ग पर शहरी सीमा के अंदर दुर्घटनाएं होती रहती है।