May 21, 2024

(जीएनएस)। एक तरफ केन्द्र सरकार तमाम योजनाओं को आधार नम्बरों से लिंक कर रही है, वहीं कंट्रोल से मिलने वाले राशन और केरोसीन की भी राशि भविष्य में हितग्राहियों के खातों में जमा कराई जाएगी। अभी घरेलू रसोई गैस के सिलेंडरों पर मिलने वाली सब्सिडी यानी अनुदान की राशि सीधे उपभोक्ताओं के खातों में जमा कराई जा रही है। सब्सिडी त्याग करवाने के लिए गिव इट अप योजना को भी अच्छा खासा समर्थन मिला और केन्द्र के 30 हजार करोड़ रुपए बचने लगे हैं। अब कार मालिकों की भी गैस सब्सिडी बंद की जाएगी। कई परिवार तो ऐसे हैं, जिनके पास दो से तीन कारें हैं और वे भी आम आदमी की तरह सब्सिडी का लाभ ले रहे हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय देशभर के क्षेत्रिय परिवहन कार्यालयों यानी आरटीओ से कारों के रजिस्ट्रेशनों की जानकारी लेगा।फिलहाल रसोई गैस सिलेण्डरों पर प्रति सिलेंडर 264 रुपए की सब्सिडी दी जा रही है। अभी 14 किलो वाला घरेलू रसोई गैस का सिलेण्डर का बाजार मूल्य 753 रुपए है, जो कि सब्सिडी पर 475 रुपए में मिलता है और इसके अंतर की राशि उपभोक्ता के बैंक खाते में जमा हो जाती है। एक परिवार को सालभर में 12 सिलेंडरों पर ही सब्सिडी दी जाती है।