February 26, 2024

जम्मू, जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तानी सेनाओं की हिंसक कार्रवाइयों का प्रभावी जवाब देने के लिए भारतीय सेना के स्थानीय कमांडरों को पूरी छूट दी गई है। सैन्य सूत्रों ने यह जानकारी दी। वहीं एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सेना की कार्रवाई में इस साल अब तक कम से कम 20 पाकिस्तानी रेंजर्स मारे गए हैं जबकि कई घायल हुए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ हफ्तों में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी गोलाबारी का जवाब देते समय भारतीय सेना ने पाकिस्तानी जवानों को गंभीर क्षति पहुंचाई है। सूत्रों ने दावा किया कि इस साल अब तक 20 पाकिस्तानी सैन्यकर्मियों को ढेर किया जा चुका है, जबकि 2017 में पूरे साल में 138 पाकिस्तानी सैन्यकर्मी मारे गए थे। पाकिस्तानी हरकतों का भारत की ओर से दिए जा रहे आक्रामक जवाब की वजह से पिछले कुछ हफ्तों में पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ कमांडरों के उनकी अग्रिम चौकियों पर दौरे भी बढ़ गए हैं। यही नहीं, भारतीय कार्रवाइयों की वजह से पाकिस्तान ने अपनी सभी चौकियों पर सतर्कता का स्तर भी बढ़ा दिया है।
मालूम हो कि सुंजवां आतंकी हमले के बाद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने पाकिस्तान को चेतावनी दी थी कि उसे इस दुस्साहस की कीमत चुकानी पड़ेगी। इस बीच, नेपाल की तीन दिवसीय यात्रा से लौटने पर गुरुवार को जनरल विपिन रावत को जम्मू-कश्मीर के ताजा हालात से अवगत कराया गया। भारत और पाकिस्तान के बीच गहरे होते तनाव का सीधा असर दोनों देशों की सीमा पर भी देखा जा रहा है। जहां पर लगातार दोनों तरफ से फायरिंग और जानें जा रही है। एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सेना की कार्रवाई में इस साल अब तक कम से कम 20 पाकिस्तानी रेंजर्स मारे गए हैं जबकि कई घायल हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक, जम्मू कश्मीर के पीर पांजाल रेंज में नियंत्रण रेखा के पार घुसपैठ की फिराक में बैठे करीब 180 से 200 आतंकियों की खुफिया रिपोर्ट के बाद सेना की तरफ से घाटी में निगरानी और बढ़ा दी गई है। दक्षिणी पीर पंजाल रेज में जो इलाके आते हैं वो है- पूंछ, राजौरी और मेंढर।
सेना से जुड़े लोगों का यह कहना है कि घाटी में इस वक्त सेना के जवान बेहद सक्रिय है और लगातार हो रहे संघर्ष विराम उल्लंघन के चलते वह ऑपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम दे रहे हैं। पिछले साल भारतीय सेना की फायरिंग में 138 की मौत हुई थी जबकि 156 घायल हुए थे। वहीं पाकिस्तान के रक्षा मंत्री खुर्रम दस्तगीर खान ने आरोप लगाया कि भारत ने पाकिस्तान के साथ संबंध सामान्य बनाने का अवसर गंवा दिया है। साथ आरोप लगाया कि अपने शत्रुतापूर्ण रुख के जरिये भारत ने शांति वार्ता की गुंजाइश को कम कर दिया है। डान न्यूज के मुताबिक, पाक रक्षा मंत्री ने बुधवार को पाक संसद के उच्च सदन सीनेट में नीति संबंधी बयान के दौरान ये आरोप लगाए। खान ने कहा, ‘भारत की मौजूदा सरकार द्वारा लगातार शत्रुतापूर्ण और पाक विरोधी रुख ने शांति वार्ता की गुंजाइश को कम कर दिया है।