February 26, 2024

जयपुर। फिल्म पद्मावती का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। राजपूत करणी सेना अब फिल्म को बैन करवाने के लिए 27 जनवरी के दिन चित्तौडग़ढ़ में महारानी पद्मावती के महल पर इक_ा होने का आह्वान किया है। -लोकेंद्र सिंह कालवी ने प्रेस वार्ता आयोजित कर कहा कि मैं देश में श्रीनगर और कलकत्ता को छोड़कर सभी राज्यों में गया हूं। सबने यही मांग की है कि फिल्म को बैन किया जाना चाहिए। कालवी ने कहा फि़ल्म पद्मावती को लेकर संजय लीला भंसाली अभी तक स्पष्ट नही है। भंसाली ने पहले तो फिल्म को इतिहास बताया, फिर फिक्शन बताया और अब सिर्फ पद्मावती से पैसा कमाने की जुगत की जा रही है। कालवी ने कहा कि 9 लोग जिनको सेंसर बोर्ड के चैयरमेन प्रसून जोशी ने फोन किया वो भी प्री-सेंसर बोर्ड है। उनकी बात क्यों मानी जाए, क्यों फिल्म में 26 कट लगाए और घूमर नृत्य हटाने की बात की। कालवी ने कहा कि हमारी तकलीफ अलग है। उस तकलीफ से कमाने का जरिया निकाला जा रहा है। भंसाली हमारे इस दर्द से पैसा कमाने चाहता है। डेढ माह से करनी सेना से कोई बात नहीं कर रहा। हम चांदी का जूता मारेंगे। वर्तमान स्तिथि में फि़ल्म को नही चलाना चाहिए। इस फिल्म के जरिए हिन्दू-मुसलमान को लड़ाने की साजिश रची जा रही है, इस फि़ल्म की आड़ में माहौल खराब करने की साजिश रची जा रही है। स्क्रीनिंग कमेटी में जो लोग गए थे उसमें महाराजा उदयपुर ने तो साफ तौर पर कहा था कि फिल्म बैन होनी चाहिए और लिखित में भी अपनी आपत्तियां दर्ज कराई। अब उनका स्क्रीनिंग कमेटी से नाम हटा दिया गया। अब सिर्फ पीएम मोदी से उम्मीद है, की वे इस फिल्म को बैन करा सकें। हम पीएम से एक ही मांग कर रहे हैं पुरानी फि़ल्म की रील जोहर की ज्वाला में डाल देना चाहिए। कालवी ने 27 जनवरी को करनी सेना, सामाजिक संगठनों, सभी वैचारिक लोगों को चित्तौडग़ढ़ में महारनी पद्मावती के महल पर इक_ा होने का आह्वान किया है। अब चित्तौडग़ढ़ में महाकुम्भ होगा।