May 27, 2024

भागवत कथा के अंतिम दिन हुई पूर्णाहूति, फूलों से सजे राधा-कृष्ण, श्रद्धालुओं ने ग्रहण किया भण्डारे में प्रसाद

बीकानेर। श्रृंगार तेरा प्यारे…शोभा करूं क्या उसकी…बिन बोले बिक गई हूं…जब से छवि निहारी… वृंदावन बिहारी के भजन से जबरदस्त माहौल के साथ केसरदेसर मौहल्ले में चल रही सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का समापन कल फागोत्सव के साथ हुआ। वहीं कथा में आज यज्ञ में मंत्रोच्चार के साथ पूर्णाहूति का आयोजन किया गया।
आयोजक कमेटी सदस्य मोहन कड़ेला ने बताया कि कल केसरदेसर मौहल्ले में चल रही भागवत कथा के समापन पर होली पर्व के मौके पर श्रीकृष्ण-राधा को श्रद्धालुओं द्वारा पुष्प वर्षा से फाग होली खिलाई गई। कथा में श्रीकृष्ण-मनिष व राधा-मोनिका ने अभिनय किया। श्रीमद् भागवत कथा में कथा वाचक पंडित
प्रकाश तिवाड़ीने अनेक प्रसंगों
का वर्णन करते हुए कहा कि भगवान की सच्चे मन से कि
जाने वाली प्रार्थना अवश्य स्वीकार की जाती है, इसलिए हमे अपने जीवन का कुछ समय भक्ती में लगाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि भागवत के प्रसंगों को अपने जीवन में उतारकर मनुष्य अपने जीवन को सफल बनायें। मनुष्य रूपी जीवन मिलता है तो इसकी सार्थकता भी साबित होनी चाहिए, इसलिए हमें अपने जीवन में अच्छे कार्य करने चाहिए। कथा में पंडित प्रकाश जी के साथ महेश भाई शास्त्री का भी सहयोग रहा। कथा में आज पूर्णाहूति के बाद विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया।