May 26, 2024

पुलिस कमिश्नरेट के महिला थाने में तैनात एक महिला कॉन्स्टेबल बुधवार शाम को अपने घर में पंखे से झूलती हुई मिली। कुछ दिन पहले उसके खुद के बनाए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए, इनसे पता चला कि वह किसी लड़के से प्यार करती थी, लेकिन घर वाले उसके खिलाफ थे और उसकी शादी दूसरी जगह करवा दी। वीडियो में कॉन्स्टेबल ने खुद और प्रेमी के साथ अनिष्ट की आशंका भी जताई थी। ओसियां थानाधिकारी नेमाराम के अनुसार, बुधवार शाम करीब 7:30 बजे सूचना मिली कि सिरमंडी में रहने वाले संवताराम मेघवाल की बेटी सरोज मेघवाल ने खुद को कमरे में बंद कर रखा है और दरवाजा नहीं खोल रही है। इस पर डीएसपी (ओसियां) सरदार दान के साथ थानाधिकारी की टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने किसी तरह दरवाजा खोला तो सरोज भीतर पंखे से फंदे पर झूलती हुई मिली। रात को पुलिस ने शव ओसियां हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखवा दिया और गुरुवार को पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया। उसके भाई राजेंद्र मेघवाल की रिपोर्ट पर मर्ग दर्ज किया गया है। पुलिस पूछताछ में परिजनों ने बताया कि सरोज की शादी अक्टूबर 2016 में भैंसेर कोतवाली निवासी पुखराज मेघवाल पुत्र भोमाराम के साथ हुई थी। शादी के बाद वह सिर्फ एक बार ही अपने ससुराल गई थी। परिजनों ने उसे दिमागी रूप से अस्वस्थ बताया, जबकि वायरल हुए वीडियो से उसके लव अफेयर की बात सामने आ गई। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो सरोज ने गत 2 नवंबर को किसी मॉल में बनाए थे। इनमें सरोज ने खुद को होशोहवास में बताते हुए कहा, वह हेमंत नामक युवक से प्यार करती है। गत 27 अक्टूबर को उसके सामने ही उसके भाई शिवलाल और चाचा पुखाराम ने हेमंत उर्फ गुड्डू के साथ मारपीट कर गला घोंटने की कोशिश की थी। चाचा और भाई ने उससे हेमंत के खिलाफ रिपोर्ट पर जबरन साइन करवाए और रातानाडा थाने में उसे भगाकर ले जाने का मामला दर्ज कराया। हालांकि, पुलिस ने सरोज के बयान के आधार पर एफआर भी लगा दी थी। वीडियो में सरोज ने खुद के साथ अनिष्ट की आशंका जताते हुए कहा कि उसके घरवाले हेमंत को फंसा सकते हैं। सरोज जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट में वर्ष 2015 बैच की कॉन्स्टेबल थी और इन दिनों महिला थाने में तैनात थी। 10 जनवरी को ही उसका कन्फर्मेशन भी होने वाला था और वह दो दिन पहले ही घर गई थी। बुधवार शाम को सरोज ने अपनी मां को नहाने के लिए कपड़े दिए। कुछ देर बाद मां नहाकर बाहर निकली, तो घर के सारे दरवाजे अंदर से बंद मिले। बाद में परिजनों ने पुलिस को बुलाया। एसपी (ग्रामीण) डॉ. रवि भी ओसियां पहुंचे। मामले की जांच ओसियां एसडीएम गोपाल परिहार कर रहे हैं।
प्रेमी बोला-9 साल से थे हमारे संबंध, सबको पता था सरोज के प्रेमी यहां भदवासिया में परिहार नगर के रविदास नगर निवासी हेमंत मोहनपुरिया ने भास्कर को बताया, कि उसके घर के सामने ही सरोज के चाचा का घर है। वहीं दोनों की मुलाकात 9 साल पहले हुई थी। यहां से शुरू हुई दोस्ती प्यार में बदल गई। हेमंत का कहना है कि इस बारे में सरोज के चाचा के परिवार ही नहीं, उसके खुद के भाइयों और अन्य रिश्तेदारों को भी पता था। चार दिन पहले 7 जनवरी को भी सरोज ने फोन पर कहा था कि घर वाले उसे जान से मार देंगे। इनकी बात चल ही रही थी कि उसका भाई वहां पहुंच गया और फोन छीन लिया। हेमंत के अनुसार, सरोज के चाचा पुखाराम जोधपुर कमिश्नरेट में सब इंस्पेक्टर है, जबकि एक भाई शिवलाल हेड कॉन्स्टेबल और हरचंद कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात है। हेमंत का आरोप है कि घरवालों ने मिलकर ही सरोज की हत्या करके इसे आत्महत्या का रूप दे दिया।