February 25, 2024

राजस्थान से सटे ​हरियाणा-पंजाब बॉर्डर पर लगाईं ​कीलें, किसान आंदोलन को लेकर बॉर्डर इलाकों में अलर्ट, सीमेंट के पाइप और बैरिकेड लगा रास्ते बंद किए

किसान आंदोलन को देखते हुए राजस्थान से सटे पंजाब-हरियाणा के बॉर्डर पर अलर्ट जारी किया गया है। राजस्थान से सटे हनुमानगढ़ जिले के पंजाब और हरियाणा बॉर्डर पर दोनों राज्यों (राजस्थान-हरियाणा) की ओर से बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। हनुमानगढ़ जिले से सटे हरियाणा के चौटाला को जोड़ने वाले रतनपुरा चौराहे पर सड़क में कीलें लगा दी गई हैं। सीमेंट के पाइप और बैरिकेड लगाकर रास्तों को बंद कर दिया गया है।

सोमवार शाम को हनुमानगढ़ से हरियाणा जाने वाले दो रास्तों को बंद कर दिया गया है। हनुमानगढ़ से से हरियाणा को जाने वाले संगरिया-रतनपुरा चौराहा व मसीतावाली हेड के पास हरियाणा मोड़ पर पुलिस जवान तैनात कर दिए गए हैं। इसी तरह राजस्थान पंजाब को जोड़ने वाले मालाराम-ढाबा पंजाब वाले रास्ते को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है।

बॉर्डर इलाकों में सख्ती के बाद भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष बलवीर छिल्लर ने बताया- किसान संयुक्त माेर्चा ने निर्णय लिया है कि 16 फरवरी को सभी कृषि उपयोगी वाहन बंद रहेंगे। दिल्ली कूच पर कहा कि इसे लेकर जल्द ही निर्णय लिया जाएगा। जो भी बाधा आएगी, उसे लड़ते हुए पार करेंगे।

श्रीगंगानगर, हनुमानगढ और अनूपगढ़ जिले में धारा 144 लागू

कोटपूतली-बहरोड़ जिले के हरियाणा बॉर्डर शाहजहांपुर में किसान आंदोलन को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट है। हनुमानगढ़ जिले के भादरा मोड-नोहर-फेफाना तिराहे पर भी 8-8 घंटे के ‎टर्म में पुलिस नाकाबंदी और वाहनों की जांच ‎शुरू हाे गई है। दोनों ही मोर्चों पर एसपी और डीएसपी लेवल के अधिकारी लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं। इसके साथ ही प्रशासन ने पंजाब-हरियाणा की ओर यात्रा करने वाले लोगों के लिए अगले दो दिन की ट्रैफिक एडवाइजरी भी घोषित की है।

ऐसे ही राजस्थान के अलग-अलग सीमा क्षेत्र पर पुलिस ने बैरिकेडिंग करके जिक-जैक ‎बनाए हैं। बताया जा रहा है कि इन रास्तों को बंद कर दिया जाएगा। अनूपगढ़ और हनुमानगढ़ जिले में आगामी दिनों में कानून-व्यवस्था की‎ स्थिति को देखते 144 लागू कर दी गई है। हनुमानगढ़ कलेक्टर कानाराम ने बताया कि यह आदेश ‎11 फरवरी शाम 6 बजे से 20 फरवरी की‎ मध्यरात्रि तक जिले में लागू रहेगा।

बहरोड़ के डीएसपी तेज पाठक ने बताया- बहरोड़ के मांढण में हरियाणा बॉर्डर पर 12 पुलिसकर्मियों की टीम तैनात है। शाहजहांपुर बॉर्डर पर 30 जवानों ओर अधिकारियों के साथ फोर्स मुस्तैद है। यहां शाहजहांपुर थानाधिकारी रामकिशोर शर्मा मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

आम लोगों के लिए ट्रैफिक एडवाइजरी जारी

हनुमानगढ़ जिला पुलिस ने रविवार को ट्रैफिक ‎एडवाइजरी भी जारी की है। इस एडवाइजरी में लोगों से‎ 12 और 13 फरवरी को पंजाब-हरियाणा ‎राज्य में यात्रा करने से बचने को कहा है। ‎अपील में कहा है कि बहुत जरूरी होने पर ही ‎इन दो दिनों में पड़ोसी राज्य पंजाब-हरियाणा ‎की यात्रा करें। साथ ही बड़े ट्रक और ट्रांसपोर्ट‎ वाहनों के लिए अलग से रूट मैप तैयार किया‎ गया है।‎

पंजाब और हरियाणा जाने के‎ लिए 13 काे ये रहेगा रूट

  • बीकानेर से नेशनल हाईवे 62 पर ‎श्रीगंगानगर होकर हरियाणा जाने वाले भारी‎ वाहन अर्जुनसर, पल्लू, भानीपुरा, सरदार शहर ‎होते हुए चूरू से हरियाणा जा सकेंगे।‎
  • बीकानेर से नेशनल हाईवे 62 पर ‎श्रीगंगानगर होकर पंजाब व हिसार जाने ‎वाले सभी प्रकार के भारी वाहन अर्जुनसर,‎पल्लू, न्योखली, नोहर और भादरा होते हुए जा‎ सकेंगे।
  • श्रीगंगानगर से साधुवाली, पतली और कोठा‎पुल तथा अन्य रास्तों से सभी प्रकार के भारी‎ वाहनों पर आवागमन पूरी तरह बंद रहेगा।
  • जिला अनूपगढ़ से आने वाले भारी वाहन सूरतगढ़ से वाया अर्जुनसर होकर पल्लू से‎ आगे जा सकेंगे।‎
  • हनुमानगढ़ से संगरिया की तरफ जाने‎ वाले सभी प्रकार के भारी वाहनों पर पूरी‎ तरह से प्रतिबंध रहेगा।
  • श्रीगंगानगर से आने वाले भारी वाहन ‎कैंचियां चेक पोस्ट से वाया सूरतगढ़,‎ अर्जुनसर होकर पल्लू से जा सकेंगे।

बड़ी संख्या में फोर्स को 13 फरवरी को तैनात किया जाएगा

2021 में कांग्रेस सरकार में बॉर्डर पर ही सबसे लंबा आंदोलन चला था। प्रशासन के निर्देश पर सोमवार और मंगलवार को यहां पुलिस फोर्स की तैनाती की जाए। किसानों के आवागमन और हर एक्टिविटी पर नजर रखी जाए। अगर किसान दिल्ली के लिए जाते हैं, तो उन्हें रोका जाए। एसपी के साथ नीमराना एएसपी जगराम मीणा, बहरोड़ डीएसपी तेज पाठक, शाहजहांपुर थाना अधिकारी रामकिशोर शर्मा मौजूद रहे।

16 फरवरी को चक्का जाम करेंगे- बलबीर छिल्लर
भारतीय किसान यूनियन के राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष बलबीर छिल्लर ने कहा कि हमारी सभी संगठनों से बातचीत चल रही है। संयुक्त मोर्चा ने फैसला लिया है कि 16 फरवरी को चक्का जाम करेंगे। इसके बाद हम दिल्ली की ओर कूच करेंगे। हमारी पूरी कोशिश होगी कि हम दिल्ली तक पहुंच जाएं। जहां रोका जाएगा वहां धरना-प्रदर्शन करेंगे। हमें सिर्फ अपनी फसलों पर एमएसपी की घोषणा चाहिए।

‘अभी हाईवे पर धरना देने की तैयारी नहीं है’

बहरोड पंचायत समिति के पूर्व प्रधान और भारतीय किसान यूनियन जिला अध्यक्ष नंदराम ओला ने कहा- अभी हाईवे पर धरना देने जैसी कोई तैयारी नहीं है। अभी दिल्ली जाने का कार्यक्रम भी नहीं है। हालांकि दो-तीन दिन बाद दिल्ली कूच का प्लान किया जा रहा है। इसे ‘चलो दिल्ली मार्च’ का नाम दिया गया है। इसे किसान आंदोलन भी कहा जा रहा है। इस किसान आंदोलन का पैटर्न 2020-2021 में हुए किसान आंदोलन से काफी मिलता- जुलता हो सकता है। पिछली बार की तरह ही अलग-अलग राज्यों से किसान इस आंदोलन में शामिल होने वाले हैं।