May 28, 2024

ऐसे अफसरों की हिटलिस्ट में बीकानेर जिले के आधा दर्जन अफसर शामिल
बीकानेर। प्रदेश में बेलगाम नौकरशाही के कारण उपचुनावों में करारी हार का दंश झेल चुकी वसुंधरा सरकार ने अब नकारा और नकचढे अफसरों की नकेल कसने की तैयारी शुरू कर दी है। प्रशासनिक सूत्रों के मुताबिक अभी दो दिन पहले मुख्य सचिव एनसी गोयल की अध्यक्षता में हुई कांफ्रेस में संभागीय आयुक्तों और कलक्टरों को सीधे तौर पर हिदायत दी गई कि लापरवाह और नकारात्मक रवैये से आमजन के बीच सरकार की छवि बिगाड़ रहे अफसरों की फेहरिश्त तैयार कर उन्हे महत्वपूर्ण पदों से हटाया जाकर विभागीय कार्यवाही की जाये। जानकारी में रहे कि उपचुनावों में हार के बाद संगठन स्तर पर लिये गये फीडबैक यह बात खुलकर सामने आ गई कि प्रदेशभर में नकारा और नकचढे अफसरों के कारण आमजन में सरकार के खिलाफ माहौल बना हुआ है,मुख्यमंत्री इस मामले को लेकर खासी गंभीर है। जानकारी में रहे कि बीकानेर में ऐसे दर्जनों अधिकारी तैनात है जिनकी लापरवाह कार्यप्रणाली के कारण आजमन परेशान है, इनमें नगर विकास न्यास सचिव आरके जायसवाल, नगर निगम उपायुक्त राष्ट्रदीप यादव, उपनिवेशन उपायुक्त एएच गौरी, बीकानेर पंचायत समिति विकास अधिकारी कैलाश चौधरी, लूणकरणसर पंचायत समिति विकास अधिकारी वैभव अरोड़ा समेत शिक्षा विभाग, सानिवि, वाणिज्यकर विभाग, रसद विभाग, जिला परिषद के अनेक अधिकारी शामिल है। जिनके नकचढे रवैये के कारण आमजन में नौकरशाहों के खिलाफ विरोधभाषी माहौल कायम है। इनमें नगर विकास न्यास सचिव आरके जायसवाल के नकचढेपन का किस्सों की गूंज तो सीएमओं तक सुनाई दे रही है। जानकारी में रहे कि पिछले शुक्रवार को नगर विकास न्यास में ज्ञापन देने गये शिष्टमंडल के साथ अभद्रता से पेश आये आरके जायसवाल के रवैये को लेकर आमजन में गहरा आक्रोश कायम है,गौर तलब रहे कि आरके जायसवाल पिछले दिनों अतिक्रमण हटाओं अभियान के दौरान भी आमजन के बीच दादागिरी पूर्ण रवैये के कारण चर्चाओं में रह चुके है।
कांफ्रेस में यह दिये गये है निर्देश
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के निर्देश पर हुई कांफ्रेस में जिला कलक्टरों को हिदायत दी गई है कि आमजन की समस्याओं के निस्तारण और कल्याणकारी योजनाओं के लापरवाही अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही के साथ ऐसा सिस्टम डवलप करें कि छोटी से छोटी समस्याओं का निस्तारण बिना किसी देरी के हो सके। योजनाओं के बारे में ज्यादा से ज्यादा जागरुकता लाने और उनसे सीधा संवाद करने के लिए नवाचार करते रहें। उन्होंने कहा कि कलक्टर्स किसी भी समस्या का आने का इंतजार ना करें बल्कि प्रोएक्टिव होकर उनका तुरंत निस्तारण करने की व्यवस्था करें।