May 28, 2024

नई दिल्ली, पंजाब नेशनल बैंक के 11 हजार करोड़ से ज्यादा के महाघोटाले में आरोपी नीरव मोदी के ठिकानों पर छापेमारी जारी है। अब तक 35 ठिकानों पर छापेमारी में 5600 करोड़ का माल जब्त किया जा चुका है। इसी बीच पीएनबी घोटाले मामले में सीबीआई ने पहली गिरफ्तारी की है। सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी सहित 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। सीबीआई ने शनिवार को गोकुलनाथ शेट्टी, मनोज करात और हेमंत भट को गिरफ्तार किया है। अब सभी आरोपियों को मुंबई स्थित सीबीआई विशेष कोर्ट में पेश किया जाएगा। इन तीनों पर गलत तरीके से एलओयू देने का आरोप लगा है। सीबीआई आरोपियों को रिमांड पर लेना चाहेगी, ताकि घोटाले के बारे में खुलासा हो सकेें। इधर, ईडी ने शुक्रवार रात पटना में गीतांजलि ज्वैलरी शॉप पर रेड की। इस दौरान पीएनबी के अधिकारी भी मौजूद रहे। कोलकाता में गीतांजलि के शोरूम पर छापेमारी की गई। शनिवार रात ईडी अधिकारियों ने दुर्गापुर स्थित शोरूम को सील कर दिया। इसके बाद शोरूम के बाहर पुलिस तैनात कर दी गई है। अमेरिका के होटल पर सीबीआई की नजर है। सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक में 11,400 करोड़ रुपये के साख पत्र यानी लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग (LoUs) जारी करने के मामले में गीतांजलि समूह के प्रवर्तक मेहुल चौकसी के खिलाफ नई FIR दर्ज की है। यह मामला पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई शाखा से जारी 143 साख पत्रों से संबंधित है। इन साखपत्रों के आधार पर धोखाधड़ीपूर्ण तरीके से 4,886 करोड़ रुपये जारी किये गये। यह राशि तीन कंपनियों गीतांजलि जेम्स, नक्षत्र और गिली को 2017-18 में जारी की गई। पीएनबी घोटाले में आभूषण कारोबारी नीरव मोदी और उनके रिश्तेदार मेहुल चोकसी के गीतांजलि समूह के परिसरों पर शुक्रवार शाम से ही छापेमारी की कार्रवाई कर रहे ईडी ने अभी तक 2.25 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है। पटना स्थित प्रवर्तन निदेशालय की इकाई से मिली जानकारी के अनुसार, एजेंसी की टीम शुक्रवार देर से शाम महाराजा कॉम्पलेक्स स्थिति गीतांजलि समूह के परिसर पर छापेमारी कार्रवाई कर रही थी। टीम ने वहां से 2.25 करोड़ रुपये कीमत की संपत्ति जब्त की है। सीबीआई इस संबंध अमेरिकी सरकार से जानकारी हासिल करने के लिए भारत सरकार से अपील करेगी। इससे पहले शुक्रवार को नीरव मोदी व मेहुल चिनूभाई चोकसी के पासपोर्ट चार हफ्तों के लिए निलंबित कर दिए। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, प्रवर्तन निदेशालय की सलाह पर विदेश मंत्रालय के पासपोर्ट जारी करने वाले प्राधिकरण ने आज नीरव मोदी व मेहुल चिनूभाई चोकसी के पासपोर्ट की वैधता तत्काल प्रभाव से चार हफ्तों के लिए यू/ए पासपोर्ट अधिनियम 1967 के 10 (ए) के तहत निलंबित कर दिया है। नीरव मोदी व मेहुल चिनूभाई चोकसी को एक सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा गया है कि पासपोर्ट अधिनियम 1967 की धारा 10 (3) (सी) के तहत उनका पासपोर्ट क्यों न रद्द कर दिया जाए। यदि वे निर्धारित समय के भीतर जवाब देने में असफल हो जाते हैं तो यह माना जाएगा कि उनके पास प्रस्ताव का कोई जवाब नहीं है और विदेश मंत्रालय आगे की कार्रवाई करेगा। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) में हुए घोटाले के मामले में सीबीआई ने आज बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी, सिंगल विंडो ऑपरेटर मनोज कारत सहित 3 लोगों को अरेस्ट किया है। इन सभी को आज मुंबई स्थित स्पेशल सीबीआई कोर्ट में पेश किया जाएगा। PNB महाघोटाला मामले में शनिवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई ने बैंक के पूर्व डेप्युटी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी, SWO मनोज खरात और हेमंत भट्ट को गिरफ्तार कर लिया है। भट्ट नीरव मोदी की कंपनी का अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता था। सीबीआई आज सभी आरोपियों को मुंबई स्पेशल कोर्ट में पेश करेगी। बता दें कि PNB घोटाले का मुख्य आरोपी नीरव मोदी देश छोड़कर जा चुका है जबकि एक अन्य आरोपी मेहुल चौकसी भी भारत से बाहर है। 11,300 करोड़ रुपये के इस घोटाले में नीरव मुख्य आरोपी है। गौरतलब है कि पीएनबी के एक डेप्युटी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी पर ही कथित तौर पर स्विफ्ट मेसेजिंग सिस्टम का दुरुपयोग करने का आरोप है। बैंक इसी सिस्टम से विदेशी लेनदेन के लिए LOUs के जरिए दी गई गारंटीज को ऑथेंटिकेट करते हैं। इन्हें ऑथेंटिकेशनों के आधार पर कुछ भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं ने फॉरेक्स क्रेडिट दी थी। पीएनबी घोटाले में 18 कर्मचारियों को निलंबित कर चुका है।
घोटाला कथित रूप से जूलर नीरव मोदी ने किया है। इस घोटाले में कई बड़ी आभूषण कंपनियां मसलन गीतांजलि, गिन्नी और नक्षत्र भी विभिन्न जांच एजेंसियों की जांच के दायरे में आ गई हैं। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘चार बड़ी आभूषण कंपनियां गीतांजलि, गिन्नी, नक्षत्र और नीरव मोदी जांच के घेरे में हैं। सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय उनकी विभिन्न बैंकों से सांठगांठ और धन के अंतिम इस्तेमाल की जांच कर रहे हैं।’ अधिकारी ने कहा कि वित्त मंत्रालय से सख्त निर्देश है कि कोई बड़ी मछली बचने न पाए और ईमानदार करदाता को किसी तरह की परेशानी न हो। पंजाब नेशनल बैंक फ्रॉड मामले में सीबीआई की ओर से बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी को गिरफ्तार करने की खबर मिल रही है। साथ ही इसके पीएनबी के सिंगल विंडो ऑपरेटर मनोज करात और नीरव मोदी की कंपनियों के ऑथोराइज्ड सिग्नेटरी हेमंत भट्ट की भी गिरफ्तारी कर ली गई है।इस बीच, नीरव मोदी और अन्य आरोपियों को लेकर भी कार्रवाई तेज कर दी गई है। पंजाब नेशनल बैंक के फ्रॉड में मुख्य आरोपी नीरव मोदी और गीतांजली ग्रुप के मालिक मेहुल चौकसी के पासपोर्ट चार हफ्तों के लिए सस्पेंड कर दिये गये हैं।
सीबीआई ने मेहुल चौकसी के 20 ठिकानों पर छापे मारे थे। वहीं गुरुवार को ईडी ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के 17 ठिकानों पर छापेमारी की थी। सीबीआई ने गीतांजली जेम्स पर एफआईआर कर चुकी है। कथित आरोपियों की 5100 करोड़ रुपये की संपत्ति भी जब्त की जा चुकी है। गुरुवार को देश के सबसे बड़े बैंकिंग फ्रॉड से पर्दा उस समय उठा जब पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी)ने स्टॉक एक्सचेंज को मुंबई ब्रांच में हुए 177.17 करोड़ डॉलर (करीब 11000 करोड़ रुपए) के फर्जी लेन देन की जानकारी दी। इस खबर के बाद एक ओर जहां वित्त मंत्रालय में हड़कंप मच गया वहीं दूसरी ओर अन्य सरकारी बैंकों पर भी इसकी आंच आने की आशंका गहराने लगी। पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में लेटर ऑफ अंडरटेकिंग का इस्तेमाल किया गया है।
ज्वैलरी डिजायनर नीरव मोदी ने अपनी फर्म के आधार पर पंजाब नेशनल बैंक से ये फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग हासिल किये। फर्जी इसलिए क्योंकि न तो इसे बैंक के सेंट्रलाइज्ड चैनल से दिया गया और न ही जरूरी मार्जिन मनी नहीं थी। जारी होने के बाद इन LoUs की जानकारी स्विफ्ट कोड मैसेजिंग के जरिए सभी जगह भेज दी गई। इन LoU को नीरव मोदी ने विदेशों में अलग अलग सरकारी और निजी बैंक की शाखाओं से भुना लिया। भुनाई हुई राशि करीब 11000 करोड़ रुपए की थी। पे ऑर्डर की तरह ही ये लेटर ऑफ क्रेडिट भी कंपनी की ओर से भुगतान न करने पर उन बैंकों में भुगतान के लिए पेश किए जाते हैं जहां से लेटर ऑफ कम्फर्ट जारी हुआ होता है। पीएनबी के पास जब यह लेटर ऑफ अंडरटेकिंग भुगतान के लिए आए तो बैंक ने इनका भुगतान करने में असमर्थता जताई। जिसके बाद इस पूरे मामले का खुलासा हुआ।