April 16, 2024

बीकानेर। प्रदेशव्यापी आव्हान पर पैट्रोल पंप संचालको की हड़ताल का असर बुधवार को बीकानेर में व्यापक स्तर पर नजर आ रहा है,रोजमर्रा जिन पैट्रोल पंपों पर भारी-भीड़ रहती है वहां सन्नाटा सा पसरा रहता है। हड़ताल के दिन का फायदा उठाने के लिये कई पंप संचालकों ने अपने सैल्समेनों को पंपों पर दिवाली की रंगाई पुताई और साफ सफाई लगा दिया। हालांकि बंद के ऐलान की खबर के बाद ज्यादात्तर वाहन चालकों ने मंगलवार को अपने वाहनों की टंकियों में डीजल-पेट्रोल भरवा लिया था। जानकारी में रहे कि राज्य सरकार द्वारा पेट्रोल एवं डीजल पर वेट में 4 फीसदी की वृद्धि एवं सड़क उपकर लगाने के विरोध में जिले के 225 पेट्रोल पंप संचालकों ने बुधवार को हड़ताल पर बीकानेर के पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन के आह्वान पर रखी गई हड़ताल के दौरान किसी भी पेट्रोल पंप पर डीजल व अन्य पेट्रो उत्पादों की बिक्री पूरी तरह बंद है। ऐसे में पेट्रोल पंपों के आगे से बिना पेट्रोल-डीजल भरवाए वाहन चालकों को लौटते देखा गया। बीकानेर पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरपत सिंह राजवी ने बताया कि राज्य सरकार से इस संबंध में पूर्व में कई बार आग्रह किया गया था, लेकिन सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। राजवी के अनुसार पेट्रोल-डीजल की दरों में अन्य राज्यों की तुलना में ज्यादा दरें होने के कारण पेट्रो उत्पादों की कालाबाजारी जोरों पर चल रही है। अन्य राज्यों की तुलना में बीकानेर सहित राजस्थान के अन्य जिलों में पेट्रोल-डीजल महंगी कीमतों में मिल रहा है। इसका असर आम उपभोक्ता की न केवल जीवन शैली पर असर पड़ रहा है, बल्कि उसके घर का बजट भी बिगड़ रहा है।