May 27, 2024

बीकानेर। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अनुसूचित जाति जनजाति एक्ट में किये गये संशोधन के विरोध में बीते सोमवार को दलित संगठनों की ओर से राष्ट्रव्यापी स्तर घोषित बंद का माहौल बिगाडऩे में दलित समुदाय के शिक्षक,पटवारी और गिरदावर भी पीछे नहीं रहे,जिन्होने सोशल मीडिया पर भड़काऊ कंमेट्स वायरल करके जातिय वैमन्यता फैलाई। बंद के दौरान संवेदनशील माहौल को भड़काने के लिये वाट्सअप और फेसबुक पर लगातार आपत्तिजनक कंमेट्स करने में शामिल छत्तरगढ तहसील के लालावाली हल्का पटवारी हरिनारायण मीणा,अनिल नावरियां,अध्यापक सालूराम,छत्तरगढ गिरदावर लोकेश मीणा,खारबारा राजकीय स्कूल में तैनात अध्यापक अमीचंद,थारूसर में तैनात अध्यापक बिन्टू कुमार शामिल है। जिन्होने बंद के दौरान सोशल मीडिया पर जमकर भड़काऊ टिप्पणियां की थी। छत्तरगढ थाना पुलिस ने इनके खिलाफ किशनपुरा कृषि कॉलोनी निवासी अर्जुनसिंह राजपूत की रिपोर्ट पर जातिय वैमन्यस्ता फैलाने के आरोप में केस दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है।