May 21, 2024

पिता की दौलत को बेटे ने ससुराल में छिपाया, डकैत लूट ले गए 60 लाख का सोना व करोड़ों के दस्तावेज

जयपुर। कमिश्नरेट पुलिस ने चौमूं में डकैती डालने के मामले में पांच डकैतों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से वारदात में लूटा गया 60 लाख रुपए कीमत का 1 किलो सोना व करोड़ों रुपए सम्पत्ति के दस्तावेज बरामद किए हैं। आरोपियों ने चौमूं स्थित लक्ष्मी विहार कॉलोनी निवासी श्रवण कुमार अग्रवाल को उसके घर पर 29 सितम्बर को दिन दहाड़े बंधक बनाकर डकैती डाली थी। वारदात में करोड़ों रुपए सम्पत्ति के दस्तावेज व सोना ले गए थे। आरोपियों से वारदात में काम ली गई कार भी बरामद की है। बीजू जॉर्ज जोसफ ने बताया कि जयपुर में जलदाय विभाग के ए श्रेणी के ठेकेदार पदमचंद को एसीबी ने गिरफ्तार किया था। सर्च में करोड़ों रुपए कीमत की बेनामी सम्पत्ति की जानकारी मिली थी। ईडी की कार्रवाई से बचने के लिए ठेकेदार पदमचंद के बेटे पीयूष जैन ने करोड़ों रुपए की बेनामी सम्पत्ति व सोने-चांदी के जेवर चौमूं स्थित ससुराल में शिफ्ट कर दिए थे। उन्होंने बताया कि वारदात का पता चलने पर डीसीपी संजीव नैन व एडिशनल डीसीपी रामसिंह शेखावत के नेतृत्व में डकैतों की तलाश में टीम बनाई गई।

इनको किया गिरफ्तार….
कमिश्नर बीजू जॉर्ज जोसफ ने बताया कि नवलगढ़ हाल विश्वकर्मा स्थित संगम कॉलोनी निवासी कुलदीप सिंह शेखावत उर्फ छोटा केडी बन्ना, झुंझुनूं के गोठड़ा हाल उदयपुरवाटी निवासी अशोक कुमार सैनी, बीकानेर के करणीसर बिकाण निवासी भैरूसिंह भाटी उर्फ भैरू बन्ना, नवलगढ़ के झाझड निवासी लोकेश सिंह उर्फ लक्की सिंह शेखावत और गोविंदगढ़ के किशनमानपुरा हाल चौमूं निवासी केशव सोनी को गिरफ्तार किया।
ऐसे दिया वारदात को अंजाम….
डीसीपी संजीव नैन ने बताया कि पीयूष ने ससुराल में करोड़ों रुपए की सम्पत्ति रखी है, इसकी जानकारी उसके परिचित को लग गई। परिचित ने कर्जे में डूबे आरोपी केशव सोनी को इसकी जानकारी दी। केशव ने 5 लाख रुपए में अन्य आरोपियों से सौदा तय कर डकैती की साजिश रची। वारदात के लिए आरोपी भैरू सिंह के परिचित वेदप्रकाश से उसकी टैक्सी कार उज्जैन जाने के लिए मांगी। कार लेने के बाद आरोपियों ने उसकी नंबर प्लेट बदल दी और हथियार लेकर श्रवण कुमार के घर पहुंच गए और पीडि़त के मुंह पर पट्टी बांधकर बाथरूम में बंद कर दिया। घर से करोड़ों रुपए सम्पत्ति के दस्तावेज व सोने-चांदी के जेवर रखे बैग ले जाते समय डराने के लिए फायर भी किया। फिर कार में बैठकर भाग गए। गोली की आवाज से आसपास के लोग एकत्र हुए और पीड़ित को बंधन मुक्त किया।
सीसीटीवी फुटेज व मुखबिर की सूचना से पकड़ा…..
एसीपी चौमूं सुजीत शंकर और थानाधिकारी प्रदीप शर्मा ने बताया कि वारदात के बाद क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली। तकनीकी आधार और मुखबिर की सूचना के बाद आरोपियों की पहचान की गई। वारदात के बाद आरोपी कार लौटने की बजाय कुल्लू मनाली चले गए। फरारी के दौरान जयपुर लौटकर सोने-चांदी के जेवर बेचने की फिराक में घूम रहे थे। तभी पुलिस ने आरोपियों को पकड़ा। आरोपी अशोक सैनी व लोकेश सिंह के खिलाफ दो-दो और कुलदीप के खिलाफ चार आपराधिक प्रकरण पहले से दर्ज हैं।
आरोपी सोनी के है कर्जा….
उपनिरीक्षक रामेश्वर खोखर ने बताया कि प्लान बनाने वाले आरोपी केशव सोनी पर काफी कर्जा है। पूछताछ में सामने आया कि वह क्लबों वगैरह में भी जाता रहा है। जलजीवन मिशन जैन के घोटाला प्रकारण की उसे जानकारी थी। उसे पता था कि शहर में उसका रिश्तेदार रहता है। ऐसे में प्रकरण में फंसे जैन के बेटे का फूफा के घर आना जाना था। उसी पता था कि उसके घर में कारोड़ों रुपए की संपत्ति के दस्तावेज वगैरह रखे हुए है।
फर्जी नंबर प्लेट लगाकर लाए थे कार….
उन्होंने बताया कि आरोपी किराए में कार लेकर आए थे। कार पर नंबर प्लेट फर्जी लगाकर लाए थे। ताकि पुलिस को चकमा दिया जा सके, लेकिन आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर नहीं जा सके।