May 28, 2024

बीकानेर। स्कूलों में पढऩे वाले बच्चों की समस्याओं से अवगत होने के लिए अब स्कूल प्रबंधन को मन की बात पेटी रखनी होगी। शिक्षा विभाग ने इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश देते हुए पाबंद किया है वे अपने अधीन सभी स्कूलों में मन की बात पेटी रखवाने की कार्रवाई करें। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रेडियो के माध्यम से अपने मन की बात देश वासियों को बताई जा रही है। उसी तर्ज पर सरकार द्वारा स्कूलों की समस्याओं को लेकर स्टूडेंट्स के मन की बात ली जाएगी। इसमें स्कूल की समस्या, शिक्षण व्यवस्था, शिक्षकों का व्यवहार अन्य शैक्षिक सहशैक्षिक गतिविधियों से संबंधित शिकायत स्टूडेंट्स मन की बात में डाल सकते हैं। इसके बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा प्राप्त शिकायत की जांच कर स्टूडेंट्स की उस समस्या का समाधान किया जाएगा। इसके साथ ही स्टूडेंट्स की जागरूकता के लिए स्कूल में 1098 टोल फ्री नंबर भी प्रिंट करवाने के निर्देश दिए गए है। मन की बात में प्राप्त शिकायत को शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा निस्तारित किया जाएगा। अपने स्तर की नहीं होने पर उस शिकायत को शिक्षा विभाग के ही उच्चाधिकारियों के पास भेजा जाएगा। गौरतलब है कि स्कूलों में पढऩे वाले बच्चों की कई शिकायते रहती है। जो उनके पास ही रह जाती है। इससे तो स्टूडेंट्स के अनुरूप स्कूल का विकास हो पाता है और ही स्टूडेंट्स की समस्याओं की सुनवाई हो पाती है। लेकिन अब मन की बात में कोई भी स्टूडेंट्स अपने स्कूल की समस्या या शिकायत लिखकर डाल सकता है। इसके बाद उसे सक्षम अधिकारी तक पहुंचाया जाकर निस्तारण करवाया जाएगा।