February 25, 2024

ग्रामीणों ने अद्र्धनग्र प्रदर्शन कर जताया रोष
शिक्षा के निजीकरण के विरोध धरना जारी
बीकानेर।
राजस्थान सरकार की ओर से प्रदेशभर में शिक्षा प्रणाली में फेरबदल करते हुए कुछ चिह्नित स्कूलों को पीपीपी मोड के जरिये निजी हाथों में सौंपने के फैसले का विरोध आज 2१वें दिन भी जारी रहा। वहीं शिक्षा बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले आज सातों स्कूलों के आगे ग्रामीणों ने अद्र्धनग्र प्रदर्शन करते हुए रोष जताया। इस दौरान ग्रामीणों ने राज्य सरकार एवं शिक्षा विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
जानकारी में रहे सरकार के इस फैसले के बाद से ग्रामीण क्षेत्रों में सरपंच, जिला परिषद सदस्य, शिक्षक, परिजन एवं विद्यार्थियों की ओर से एकजुट होकर आंदोलन चलाया गया है। शिक्षा बचाओं संघर्ष समिति के ओमप्रकाश तर्ड ने बताया कि बीकानेर जिले की सात स्कूलों को पीपीपी मोड के जरिये निजी हाथों में सौंपने का फैसला लिया गया है। जिसके विरोध में सातों सरकारी स्कूल के आगे चल रहा धरना आज 2१वें दिन भी जारी रहा। ओमप्रकाश तर्ड ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से आज शाम उक्त स्कूलों के टेण्डर देना तय हुआ है। जिससे प्रदेशभर में शिक्षा जगत एवं ग्रामीण क्षेत्रों में राज्य सरकार के विरूद्ध भारी रोष व्याप्त है। उन्होंने बताया कि इन स्कूलों को पीपीपी मोड के लिए टेण्डर दिए जाने पर कल से फिर स्कूलों में तालाबंदी की जाएगी। जो इस फैसले को वापिस लेने तक जारी रहेगी।
इतनी स्कूलों का होगा निजीकरण
राजस्थान सरकार की ओर से प्रदेशभर की कुछ स्कूलों को पीपीपी मोड के जरिये निजी हाथों में सौंपकर शिक्षा पद्धति में परिवर्तन किया जा रहा है। जिसमें प्रदेश की ३०० स्कूले शामिल है। वहीं इस सूची में बीकानेर जिले की ७ स्कूले भी शामिल है।
शिक्षक नेताओं ने जताया रोष
शिक्षक नेताओं का कहना है कि शिक्षा निदेशक माध्यमिक बीकानेर ने शिक्षा बचाओं संघर्ष समिति को यह आश्वासन दिया था कि उनके ज्ञापन को राज्य सरकार को भिजवाकर उसकी एक प्रति शिक्षा बचाओं संघर्ष समिति को भी दी जायेगी। लेकिन संघर्ष समिति ने आरोप लगाया कि आज तक उनको प्रति प्राप्त नहीं हुई है जिसकी शिक्षक संगठन भर्तसना करते है।
ये है स्कूले :
रा.मा.वि. हाफासर, रा.मा.वि. बाना, रा.बा.मा.वि. रायसर, रा.बा.मा.वि. चाचा नेहरू नोखा, रा.मा.वि. मान्याणा, रा.मा.वि. कक्कू व रा.मा.वि. सांईसर (पांचू) नोखा।