February 22, 2024

पीट-पीटकर सरकारी टीचर ने स्टूडेंट की रीढ़ की हड्‌डी तोड़ी : पिता बोले- फर्श पर गिराकर गर्दन पर पैर रखा, फुटबॉल की तरह लात मारते रहे

टोंक। सरकारी स्कूल के टीचर ने स्टूडेंट को इतना पीटा कि उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई। छुट्टी के बाद स्टूडेंट घर पहुंचा और उसने परिवार वालों को पूरी बात बताई। बच्चे ने कमर में दर्द होने की बात कही तो उसको प्राइवेट हॉस्पिटल ले जाया गया। अब तकलीफ बढ़ने पर उसे टोंक के सआदत अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शिक्षा विभाग ने टीचर को सस्पेंड कर दिया है। मामला टोंक जिले के बनेठा इलाके का है।
थाना अधिकारी हेमराज मीणा ने बताया कि रमजानगंज निवासी मनीष सैनी (15) पुत्र श्योपाल माली बनेठा के गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 10वीं क्लास में पढ़ता है। वह रोजाना की तरह 18 नवंबर को स्कूल गया था। पीड़ित स्टूडेंट के पिता श्योपाल सिंह ने बताया कि दोपहर में टीचर नरेंद्र जैन पुत्र सूरजमल जैन की क्लास में पढ़ रहा था। इस दौरान पीछे रास्ते में कुछ बच्चों ने शोर मचाया। इसके बाद टीचर ने किसी से भी कुछ नहीं पूछा और मेरे बेटे के साथ मारपीट करने लगे, जबकि मेरे बेटे ने कोई शोर नहीं किया था। टीचर ने मेरे बेटे की गर्दन पकड़कर उसको फर्श पर नीचे गिराया और गर्दन पर पैर रख दिया। इसके बाद फुटबॉल की तरह उसे लात मारते रहे। क्लास के बच्चों ने शोर मचाया तो स्कूल का दूसरा स्टाफ वहां आया। इसके बाद मेरे बेटे को कहा कि इस घटना के बारे में बाहर किसी को भी मत बताना।
पिता ने कहा कि स्कूल की छुट्टी के बाद बड़ी मुश्किल से मेरा बेटा 6किमी साइकिल लेकर घर आया। उसका चेहरा उतरा था। मां ने कारण पूछा। मनीष ने स्कूल में पिटाई की बात बताई। साथ ही, कहा कि कमर में तेज दर्द हो रहा है। रात में ही उसे प्राइवेट हॉस्पिटल में ले गए, जहां एक्सरे करवाने पर उसकी रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर आया।

टीचर ने मुझे बोलने का मौका ही नहीं दिया
पीड़ित स्टूडेंट मनीष ने बताया कि वह क्लास में बैठा था। इस दौरान पीछे रास्ते में कुछ बच्चों ने शोर मचाया तो मेरी क्लास के भी कुछ बच्चों ने शोर मचाया। इस पर टीचर ने उनको तो नहीं पीटा, लेकिन मेरे साथ मारपीट की। टीचर ने मुझे बोलने का मौका ही नहीं दिया। उन्होंने मुझे नीचे गिराया और फिर लातों और थप्पड़ों से मारा। छात्र के पिता ने 19 नवंबर की शाम को टीचर के खिलाफ मामला दर्ज कराया है, जिसकी जांच की जा रही है।

पीटने से नहीं नीचे गिरने से लगी चोट
टीचर नरेंद्र जैन ने बताया कि मैं 18 नवंबर को करीब 2.30 बजे 10वीं क्लास में संस्कृत पढ़ा रहा था। इस दौरान स्टूडेंट मनीष क्लास में पीछे बैठा था। वह शोर-शराबा कर रहा था। मैंने उसे 2-3 बार चुप रहने के लिए कहा था, लेकिन वो नहीं मान रहा था। मैं उसके पास गया और उसे खड़ा कर थप्पड़ मारने वाला ही था कि वह थप्पड़ से बचने के लिए हड़बड़ाहट में नीचे गिर गया। बच्चा स्कूल में पढ़ने के बाद साइकिल लेकर करीब 6 किमी दूर अपने गांव गया है। शनिवार को परिजन स्कूल आए थे, तो उनको समझा दिया था। मामला इतना बड़ा नहीं है। कुछ लोग इसे हवा दे रहे हैं।

शिक्षा विभाग ने टीचर को किया सस्पेंड
जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक) मीना लसारिया ने बताया कि मामला सामने आने के बाद आरोपी टीचर नरेंद्र जैन को सस्पेंड कर दिया गया है। सीबीईओ को तथ्यात्मक रिपोर्ट और जांच करने के आदेश दे दिए हैं।