May 26, 2024

जयपुर। चुनावी संग्राम में प्रत्याशियों के नामों की घोषणा अहम मानी जाती है और राजनीतिक दलों के लिए जीतने वाले उम्मीदवारों का चयन सबसे पेचीदा मामला होता है। राजस्थान विधानसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही अब आम मतदाता की नजर इसी पर है कि उनके क्षेत्र से प्रमुख दलों के कौन—कौन प्रत्याशी मैदान में उतर रहे हैं। राजस्थान में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है। फिलहाल प्रत्याशियों की घोषणा में भाजपा ने बाजी मारी ली है। पर राजस्थान में कांग्रेस की उम्मीदवारों की सूची का इंतजार है। भाजपा की लिस्ट के आने के बाद कांग्रेस में हलचल मच गई है। कांग्रेस के उदयपुर चिंतन शिविर में भले ही टिकटों के जल्दी वितरण का संकल्प लिया गया हो लेकिन यह संकल्प साकार होता नहीं दिख रहा। अब चुनावों की घोषणा हो चुकी हैं। तो माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में कांग्रेस की सूचियां भी जारी हो जाए।

वैसे भी चर्चा थी कि कांग्रेस, भाजपा की लिस्ट के बाद ही अपनी पहली लिस्ट जारी करेगी। पितृपक्ष चल रहा है तो संभावना है कि नवरात्र के पहले दिन कांग्रेस अपनी पहली लिस्ट का एलान करे। बताया जा रहा है कि कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव सीमित की बैठक 12-13 अक्टूबर को होगी। जिसमें उम्मीदवारों के नामों पर फाइनल मुहर लग जाएगी।

सीएम अशोक गहलोत की इच्छा थी जल्दी घोषित किए जाए उम्मीदवार

प्रदेश में दो माह पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों की घोषणा जल्दी किए जाने की आवश्यकता बताने के बावजूद सत्तारूढ़ कांग्रेस ने कोई सूची जारी नहीं की है। भाजपा ने सोमवार को 41 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की।

जहां चुनाव हारी थी वहां भाजपा ने उतारे उम्मीदवार

विद्याधर नगर से पूर्व मंत्री नरपतसिंह राजवी का टिकट काट कर राजसमंद सांसद व जयपुर के पूर्व राजघराने की दीया कुमारी को मैदान में उतारा गया है। शेष उन सीटों पर प्रत्याशी घोषित किए गए हैं जहां पिछली बार पार्टी चुनाव हारी थी।

कांग्रेस के पैनल अभी तैयार नहीं

भाजपा ने कुल सात सांसदों, चार महिलाओं, पिछले चुनाव के तीन बागी और बसपा से आए दो दलबदलुओं को टिकट दिया है। उधर, कांग्रेस में अभी प्रत्याशियों को लेकर स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हुई हैं, लेकिन पैनल तैयार नहीं हुए हैं। पहली सूची नवरात्रि में सकती है।