February 22, 2024

जयपुर में अचानक पलटा मौसम का मिजाज, बारिश के साथ ठंड ने दी दस्तक, इन 5 शहरों में अलर्ट जारी

जयपुर। प्रदेश में बीते 48 घंटों से बदलते हुए मौसम ने अब लोगों को राहत देना शुरू कर दिया है. वहीं जयपुर में गुरुवार को अचानक मौसम पलट गया. तूफानी बारिश शुरू हो गई. करीब आधे घंटे तक जयपुर के कई हिस्सों में तेज हवाओं के साथ पानी बरसा. बारिश-हवा के साथ ही सर्दी से ठिठुरन बढ़ गई. जयपुर के टोंक रोड, 22 गोदाम, जेएलएन मार्ग, विद्याधर नगर, सोडाला समेत कई जगहों पर तेज बरसात हुई. करीब आधा घंटा हुई बारिश के साथ ही तेज स्पीड से हवाएं चलने से ठिठुरन बढ़ गई.

साथ ही इधर, नगर निगम मुख्यालय पर जो भाजपा-कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लगा था. वह भी बारिश के बाद खाली हो गया. इससे पहले बीती रात जयपुर के कुछ इलाकों हल्की बूंदाबांदी हुई. इधर, मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक मौसम में अचानक बदलाव लोकल लेवल पर हुई क्लाउडिंग से हुआ. इस असर जयपुर के अलावा सीकर और नागौर जिलों में भी देखने को मिला.

बारिश-ओलावृष्टि से बढ़ी सर्दी
राजस्थान दो दिन पहले हुई बारिश-ओलावृष्टि के बाद तापमान में बड़ी गिरावट हुई है. इससे चूरू, उदयपुर समेत अधिकांश शहरों में रात और दिन का तापमान 5 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क गया. देर रात और अलसुबह कई शहरों में हल्का कोहरा और धुंध भी छाई रही. वहीं, हल्की ठंडी हवा चलने से ठंड भी बढ़ गई. मौसम केंद्र जयपुर कल से उत्तरी हवाओं के चलने से तापमान में और गिरावट होने और ठंड बढ़ने की भी संभावना जताई है. जयपुर में बीती रात न्यूनतम तापमान 18.9 डिग्री सेल्सियस रहा.

साथ ही जयपुर के अलावा अन्य शहरों में तापमान गिरने से आज सर्दी का असर थोड़ा ज्यादा रहा. उदयपुर, चूरू में रात का न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस पर दर्ज हुआ. उत्तरी राजस्थान के गंगानगर, हनुमानगढ़ एरिया में सुबह वातावरण में हल्की धुंध, कोहरा छाया राहा, लेकिन सूरज चढ़ने के साथ ही मौसम साफ होने लगा.

कल से आने लगेगी उत्तरी हवाएं, बढ़ेगी ठंड
मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक हाल ही में जो वेस्टर्न डिर्स्टबेंस का कुछ असर हिमाचल, उत्तराखंड में देखने को मिलेगा. इससे वहां हल्की बारिश के साथ बर्फबारी होगी. जम्मू-लद्दाख में कल बर्फबारी हुई. इस सिस्टम के पास आउट होने के बाद बफीर्ली हवाएं आने लगेगी, जो मैदानी इलाकों में तापमान गिरने लगेगा. राजस्थान में 11 नवंबर से उत्तरी हवाओं का असर धीरे-धीरे बढ़ने लगेगा. दिन-रात के तापमान में गिरावट होने लगेगी.