May 21, 2024

तार खींचा तो बुजुर्ग के सिर पर गिरा बिजली पोल : मेंटेनेंस वर्क के दौरान हादसा; डिस्कॉम कर्मचारी को पीटा, बंधक बनाया
भरतपुर। भरतपुर के जघीना में बिजली का जर्जर खंभा घर के बाहर बैठे बुजुर्ग के सिर पर जा गिरा। 75 साल के बुजुर्ग की मौके पर ही मौत हो गई। जघीना में सीमेंट से बने ज्यादातर खंभे जर्जर हो चुके हैं। इन्हें बदलने का निर्देश था।
सोमवार सुबह 11 बजे डिस्कॉम ऑफिस भरतपुर से बिजली कर्मचारियों की टीम खंभे बदलने उद्योगनगर थाना इलाके के गांव जघीना पहुंची। लाइनमैन कर्मचारियों को निर्देश दे रहा था। इस दौरान एक कर्मचारी ने तार खींचा तो एक के बाद एक 3 खंभे भर-भरा कर गली में गिर गए।
एक खंभा घर के बाहर बैठे बुजुर्ग गिर्राज के सिर पर आ गिरा। हादसा दोपहर 12 बजे के लगभग हुआ। इसके बाद गांव में हड़कंप मच गया। काम कर रहे 5 बिजली कर्मचारी काम छोड़ इधर-उधर हो गए। बाइक पर आया लाइनमैन भी मौका स्थल से फरार होने के प्रयास में था।
हादसे के बाद गिर्राज के घर के बाहर जुटे लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। कुछ लोगों ने लाइनमैन को पकड़ लिया। उससे बाइक की चाबी छीन ली और जमकर मारपीट कर दी। इसके बाद लाइनमैन को वहीं एक कमरे में बंद कर दिया। एक घंटे तक लाइनमैन बंधक बना रहा। पुलिस के आने पर उसे छोड़ा गया। इस दौरान एक ग्रामीण ने पूरे घटनाक्रम का वीडियो बना लिया।
गुस्साए लोगों ने उद्योगनगर थाना पुलिस को सूचना दी कि जघीना गांव में बिजली कर्मचारियों की लापरवाही से एक व्यक्ति की मौत हो गई है, लाइनमैन को बंधक बना लिया गया है। इस पर दोपहर 1 बजे नगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और लाइनमैन को लोगों से छुड़ाकर भरतपुर ले आई।
एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया- कर्मचारी पोल और तार बदलने आए थे। एक कर्मचारी बिजली के जर्जर खंभे से तार खींच रहा था। पोल हिल रहे थे। एक के बाद एक तीन पोल गिरे। एक खंभा गिर्राज पर गिर पड़ा। वह जोर से चिल्लाया और अचेत हो गया। आवाज सुन गिर्राज के घरवाले बाहर निकले।
लोगों ने कर्मचारी से कहा भी था कि खंभा जर्जर है, जोर-आजमाइश करने पर गिर सकता है। लेकिन कर्मचारी नहीं माना और तार को खींच दिया। इससे खंभे गिरे। परिजनों ने गिर्राज को संभाला, लेकिन उसने दम तोड़ दिया था। गिर्राज जाटव के 3 बेटे हैं। एक शिक्षा विभाग में है, दो किसान हैं।
गिर्राज के पोते दीपक जाटव ने कहा कि यह हादसा बिजली विभाग की लापरवाही से हुआ है। एक बाइक भी डैमेज हुई है। दादा का पोस्टमॉर्टम तभी होगा जब तक पुलिस, प्रशासन और बिजली विभाग के अधिकारी यहां आएंगे।
इसके बाद एसडीएम, उद्योगनगर थाना पुलिस और ग्रामीण सीओ पिंटू कुमार मौके पर पहुंचे। SDM ने परिवार को सरकारी योजनाओं के तहत मुआवजा दिए जाने का आश्वासन दिया। बिजली विभाग की लापरवाही के बारे में लिखित में शिकायत मांगी और जांच का भरोसा दिया। आश्वासन मिलने के बाद परिवार पोस्टमॉर्टम के लिए तैयार हुआ।