May 28, 2024

दिल्ली भर में लगातार मनमाने तरीके से हो रही सीलिंग के विरोध में कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के आव्हान पर आज से 48 घंटे का दिल्ली व्यापार बंद शुरू हो गया है जिसके चलते दिल्ली में व्यापार पूरी तरह ठप्प है और कोई कारोबार नहीं हो रहा है। दिल्ली के लगभग 7 लाख से ज्यादा कारोबारी प्रतिष्ठान और 2500 से अधिक मार्किट बंद है !

दिल्ली नगर निगम कानून 1957 को ताक पर रखते हुए दिल्ली में हो रही सीलिंग के विरोध में आज दिल्ली के सभी थोक एवं रिटेल बाज़ार पूरी तरह से बंद हैं ! अपने आक्रोश और गुस्से का इजहार करते हुए आज दिल्ली की लगभग 500 मार्केटों में व्यापारियों ने विरोध मार्च निकाले और लगभग 100 स्थानों पर प्रदर्शन करते हुए सीलिंग पर तुरंत रोक लगाने और जो दुकानें सील हो गयी हैं उनकी सील तुरंत खुलवाने की मांग की। एक अनुमान के अनुसार आज के व्यापार बंद के दौरान दिल्ली में लगभग 1800 करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित होगा जिसके चलते सरकार को लगभग 150 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा तथा लगभग 20 लाख से अधिक लोग जो दिल्ली के व्यापार से जुड़े हैं, के कार्य घंटे व्यर्थ होंगे !

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल कहा की दिल्ली में अनेक अथॉरिटी काम कर रही हैं जिनमें तालमेल का अभाव है जिसके कारण दिल्ली का नियोजित विकास प्रभावित होता है। दिल्ली के मास्टर प्लान को सही तरीके से लागू करने एवं नियोजित विकास को गति देने के लिए दिल्ली के उपराज्यपाल की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय टास्क फ़ोर्स का गठन हो जिसमें केंद्र सरकार एवं दिल्ली सरकार के शहरी विकास मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी, डीडीए, दिल्ली नगर निगम, एनडीएमसी, दिली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी एवं व्यापारियों के प्रतिनिधियों को शामिल किया जाए !

खंडेलवाल ने कहा की व्यापारियों की मांग है की केंद्र सरकार दिल्ली को सीलिंग से बचाने के लिए एक एमनेस्टी स्कीम लाये जिसमें 31 दिसम्बर,2017 की यथास्तिथि को बरक़रार रखा जाए और किसी के भी खिलाफ सीलिंग सहित कोई दंडात्मक कार्यवाई न हो तथा भविष्य के लिए नियम-क़ानून बेहद कड़े बनाये जाएँ और दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही हो ! दूसरी ओर 351 सड़कों जो दिल्ली सरकार के पास वर्षों से लंबित है, को तुरंत कमर्शियल अथवा मिक्स्ड लैंड यूज़ के लिए अधिसूचित किया जाए! जब तक स्पेशल एरिया का रि-डेवलपमेन्ट प्लान नहीं बन जाता तब तक स्पेशल एरिया में सीलिंग सहित कोई कार्यवाई न हो !

खंडेलवाल ने कहा की नगर निगम ने व्यापारियों से हजारों करोड़ रूपए पार्किंग शुल्क के रूप में वसूले हैं इसलिए नगर निगम को तुरंत दिल्ली भर में पार्किंग स्थान विकसित करने चाहिए ! पूरी दिल्ली में समान रूप से अतिरिक्त निर्माण पर ऍफ़एआर को 400 तक बढ़ाया जाए ! जिन लोगों ने दस साल तक कन्वर्शन शुल्क दे दिया ऐसे लोगों से अब और कोई कन्वर्शन शुल्क न लिया जाए ! जो लोग किसी कारण से अभी तक कन्वर्जन शुल्क 10 साल का नहीं दे पाए हैं उन्हें एक मौका दिया जाए और कोई भी पेनल्टी अथवा ब्याज नहीं लिया जाए ! कैट ने यह भी कहा की लोकल शॉपिंग सेंटर्स कमर्शियल दरों पर दिए गए थे इसलिए उनसे कन्वर्जन चार्ज नहीं लेना चाहिए ! जो दुकाने सील हो गयी हैं उनकी सील तुरंत खुलवाई जाए ! दिल्ली में सभी क्षेत्रों में बेसमेंट को कमर्शियल उपयोग के लिए घोषित करना चाहिए !

आज से शुरू हुए 48 घंटे के बंद में दिल्ली के प्रमुख बाज़ार कनाट प्लेस, चांदनी चौक, करोल बाग़, सदर बाजार, कमला नगर, चावड़ी बाजार, कश्मीरी गेट, खारी बावली , भागीरथ पैलेस, लाजपत राय मार्किट, नई सड़क, नया बाज़ार ,खान मार्किट, साउथ एक्सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, डिफेन्स कॉलोनी, लाजपत नगर, कालकाजी, तुग़लक़ाबाद, मदनगीर,हौज़ ख़ास, युसूफ सराय ,ग्रीन पार्क एवं दक्षिणी दिल्ली के सभी प्रमुख मार्किट, राजौरी गार्डन, तिलक नगर, उत्तम नगर, नारायणा, पटेल नगर, कीर्ति नगर एवं पश्चिमी दिल्ली के अन्य बाजार, अशोक विहार, मॉडल टाउन, शालीमार बाग़, पीतमपुरा, रोहिणी एवं उत्तरी दिल्ली के अन्य मार्किट, पहाड़गंज, विकास मार्ग, लक्ष्मी नगर, जगतपुरी, कृष्णा नगर, गाँधी नगर, शाहदरा, लोनी रोड, मयूर विहार आदि पूर्ण रूप से बंद है !