March 5, 2024

बीकानेर। प्रदेश में लगातार बढ़ रहे महिला अपराधों को लेकर अब पुलिस कुछ गंभीरता दिखाने लगी है। पुलिस ने महिला सुरक्षा को लेकर नई गाइडलाइन जारी की हैं। इसमें दर्ज मुकदमों में सावधानी से लेकर सुरक्षा को लेकर जागरुक करने के प्रावधान बताए गए हैं। खास तौर पर सोशल मीडिया पर काफी सचेत रहने को कहा गया है। यहां तक कि इंटरनेट पर फोटो शेयर नहीं करने व मित्रों को भी फोटो ग्रुप में अपलोड करने से पहले पूछने की बात की कही गई है। महिला अत्याचार को लेकर दर्ज मुकदमों में भी जांच अधिकारी से लेकर एसपी तक आदेश दिए गए हैं। इन मुकदमों की जांच की प्रगति से भी समय समय पर पीडि़त महिला को अवगत करवाना होगा। मुख्यालय ने आदेश जारी किए हैं कि ‘हम ऐसी व्यवस्था में कभी गर्व महसूस नहीं कर सकते, जहाँ हमारे इलाके में बहन-बेटी की इज्जत सुरक्षित न होÓ महिलाओं पर अपराध के मामलों को तत्काल गंभीरता से लें। गंभीर मामलों में एसपी लेकर थानाधिकारी तक तुरंत मौके पर पहुंचे। मुकदमा दर्ज करने में कोई टालमटोल नहीं करें। पीडि़त महिला से संवेदनशीलता व गरिमापूर्ण तरीके से तसल्लीपूर्वक बात करें। मेडिकल तुरंत कराएं और मनोचिकित्सक की आवश्यकता हो तो भी तुरंत बुलाएं। घटना सही हो तो आरोपित को तुरंत गिरफ्तार करे। जमानती अर्जी लगाने पर आरोपित के खिलाफ कोर्ट में प्रभावी पैरवी करें।
प्रभावी कदम उठाने के निर्देश
आदेश में कहा गया कि पुलिस स्तर पर सुरक्षा का वातावरण हमेशा बनाएं रखें, गश्त व्यवस्था प्रभावी हो। सभी गश्त करने वाले पुलिसकर्मियों को बार बार महिला सुरक्षा के संबंध में अलर्ट करें। भीड़भाड़ा वाले इलाकों में सादावर्दी में पुलिसकर्मीं तैनात करें। स्कूल कॉलेज खुलने व बंद होने के एक घंटे पहले व बाद प्रभावी गश्त करवाएं। बालिका छात्रावास संचालकों पर निगरानी रखें। लडक़ों के कॉलेज में जाकर उन्हें महिला सम्मान की शपथ दिलाएं और उन्हें सचेत करें कि यदि वे किसी के साथ छेडख़ानी का अपराध करते हैं तो ध्यान रहे, उनकी बहन, मित्र या पत्नी के साथ भी कोई ऐसा अपराध कर सकता है। महिला पुलिसकर्मियों के मान-सम्मान का पूरा ध्यान रखें।