March 5, 2024

बीकानेर। पीबीएम होस्पीटल के ‘एचÓ वार्ड में एक भर्ती रोगी की मौत से गुस्साएं परिजनों और रेजिडेंट्स डॉक्टरों के बीच बहसबाजी के बाद हाथापाई से हंगामा हो गया और दोनों पक्षों ने एक दुसरे से लाते घूसेें बरसाने शुरू कर दिये। इससे वार्ड में अफरा-तफरी मच गई और हालातों पर नियंत्रण के लिये पुलिस को मौके पर पहुंचना पड़ा। जानकारी के अनुसार नोखा कस्बे के ४५ वर्षीय जेठमल उपाध्याय को मंगलवार देर रात एच वार्ड में भर्ती कराया गया था,सीने में लगातार हो रहे दर्द से पीडि़त जेठमल गुरूवार सुबह दम तोड़ दिया। उसके परिजनों ने आरोप लगाया कि लगातार तबीयत बिगडऩे के बावजूद भी डॉक्टरों ने उसे नहीं संभाला और ईलाज में लापरवाही से उसकी मौत हो गई। गुस्साएं परिजनों विरोध जताना शुरू कर दिया इस दरम्यान रेजिडेंट डॉक्टर रघुवीर तुंदवाल और धीरज कुमार वार्ड में पहुंचे तो मरीज के परिजनों से उनकी बोलचाल हो गई और देखते ही देखते हाथपाई शुरू हो गई,थोड़ी देर में दोनेां पक्षों की तरफ से भीड़ जुट गई तथा वार्ड में भारी हंगामा हो गया तथा पीबीएम अधीक्षक डॉ.पीके बैरवाल,डॉ.सुरेन्द्र वर्मा,डॉ.लियाकत अली गौरी,डॉ.विजय तुंदवाल,डॉ.बाबूलाल मीणा समेत अनेक सिनियर डॉक्टर मौके पर पहुंच गये और पुलिस की मौजूदगी में बीच बचाव कर माहौल शांत कराया। समझाइस के बाद मरीज के परिजन तो शांत हो गये लेकिन तैश में आये डॉक्टरों ने मृतक जेठमल का शव नहीं उठाने दिया। इससे मृतक के परिजन फिर भड़क गये। इधर रेजिडेंट डॉक्टरों ने घटना के विरोध में काम का बष्हिकार कर दिया। बाद में पुलिस ने पीबीएम होस्पीटल प्रशासन के हस्तक्षेप से मृतक जेठमल उपाध्याय का शव कब्जे में लेकर उसे मुर्दाघर में रखवा दिया। घटनाक्रम का विरोध करते हुए रेजिडेंट डॉक्टर मेडिकल कॉलेज प्राचार्य को ज्ञापन देने पहुंच गये वहीं मरीज के परिजनों ने आरोपी रेजिडेंट डॉक्टरों के बारे में मेडिकल कॉलेज प्राचार्य को लिखित में शिकायत दी। देर अपरान्ह खबर लिखे जाने तक पीबीएम के रेजिडेंट डॉक्टर बेमियादी हड़ताल पर चले गये थे।