March 5, 2024

श्रीगंगानगर। जिला अस्पताल में इलाज नहीं मिलने से मरीजों को परेशान होना पड़ रहा है। अस्पताल के सर्जीकल वार्ड में भर्ती मरीज का माइनर ऑपरेशन नहीं हुआ और उसकी फाइल में से जांच रिपोर्ट निकाल उसे सौंप दी गई। निकटवर्ती पदमपुर के निकट स्थित 77 एलएनपी निवासी अनिल कुमार पुत्र कृष्ण लाल ने बताया कि कुछ दिन पहले उसके पांव में नाड़ी ब्लॉकेज की समस्या सामने आई। मरीज सरकारी अस्पताल पहुंच गया। यहां डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने जांच रिपोर्ट देखकर मरीज को भर्ती कर लिया। जब मरीज के ऑपरेशन के समय आया तो मरीज थोड़ा लेट हो गया, जिसके कारण ऑपरेशन नहीं किया गया। आखिर उसे टालमटोल कर जांच रिपोर्टें लौटा दी। डॉ. देवेंद्र ग्रोवर ने बताया कि मरीज अनिल कुमार की नाड़ी ब्लॉकेज होने के कारण माइनर ऑपरेशन कराने की सलाह दी गई है। मरीज रात को अपने घर चला गया और नौ बजे तक ऑपरेशन थिएटर में नहीं पहुंचा। इसलिए ऑपरेशन नहीं किया गया। वहीं मरीज ने बताया कि पहले ऑपरेशन में काम आने वाला स्ट्रिपर ही अस्पताल में उपलब्ध नहीं था। इसके बाद उन्होंने अपने किसी परिचित के जरिए यह स्ट्रिपर जयपुर से खरीद कराया। ऑपरेशन के समय वह ओटी के बाहर मौजूद हो गया था और डॉक्टर ने ऑपरेशन नहीं किया।